What Is Biotech Engineering And Why Is Its Craze Increasing?

Thank you for reading this post, don't forget to subscribe!

Biotech Engineering: बायोटेक इंजीनियरिंग एक ऐसा क्षेत्र है जिसमें जीव विज्ञान और इंजीनियरिंग को मिलाकर अलग-अलग तरह की नई तकनीकें और उत्पाद बनाए जाते हैं. जिस तरह से कंप्यूटर या मोबाइल फोन जैसी तकनीकें इंजीनियरों द्वारा बनाई जाती है, उसी तरह बायोटेक इंजीनियर जीवों और पौधों का अध्ययन करके नई दवाएं, टीके, कीटनाशक पौधे और जैविक ईंधन जैसी बहुत सी उपयोगी चीजें बनाते हैं. पिछले कुछ सालों में बायोटेक इंजीनियरिंग का क्षेत्र काफी तेजी से बढ़ा है. क्योंकि जैव प्रौद्योगिकी से जुड़ी कई कंपनियां और स्टार्ट-अप्स पिछले कुछ सालों में बहुत तेजी से बढ़ी हैं. ये कंपनियां नई दवाएं, वैक्सीन, कीटनाशक और अन्य जैव प्रौद्योगिकी उत्पाद बनाती हैं. इसलिए युवाओं में भी इसका क्रेज देखने को मिल रहा है. आइए जानते इसके बारे में…

बायोटेक इंजीनियरिंग क्या है
बायोटेक्नोलॉजी में ‘बायो’ का मतलब है जीवन या जैविक चीजें जैसे कि पौधे, जानवर, इंसान आदि. ‘टेक्नोलॉजी’ का अर्थ है तकनीक और ‘इंजीनियरिंग’ का मतलब है इंजीनियरी करना. यानी बायोटेक इंजीनियरिंग में हम जैविक चीजों और प्रणालियों का अध्ययन करते हैं और फिर उनके आधार पर नई तकनीकें, उत्पाद या प्रक्रियाएं विकसित करते हैं.जैसे – पौधों, जीवाणुओं या जानवरों के शरीर की कार्य प्रणाली का अध्ययन करके हम नई दवाइयां, वैक्सीन या कीटनाशक बना सकते हैं. इसी तरह अन्य उपयोगी चीजें भी बनाई जा सकती है.इस प्रकार बायोटेक इंजीनियरिंग में हम प्राकृतिक जैविक प्रणालियों से सीखकर नई तकनीकें विकसित करते हैं. 

जानें क्यों युवाओं में बढ़ रहा है क्रेज 
बायोटेक इंजीनियरिंग एक ऐसा क्षेत्र है जहां युवाओं के लिए रोजगार और करियर के कई अवसर मौजूद हैं. भारत में बायोटेक्नोलॉजी सेक्टर तेजी से बढ़ रहा है और 2025 तक इसके 150 बिलियन डॉलर का होने का अनुमान है.  ऐसे में बायोटेक क्षेत्र की कई कंपनियां तेजी से विकास कर रही हैं और उन्हें बायोटेक इंजीनियरों की जरूरत है.कई प्रमुख भारतीय और बहुराष्ट्रीय कंपनियां जैसे बायोकॉन, बिल एंड मेलिंडा गेट्स फाउंडेशन, डॉ रेड्डीज लैबोरेटरीज आदि बायोटेक इंजीनियरों की भर्ती कर रही हैं. इन कंपनियों में अच्छी सैलरी, तेज प्रमोशन और करियर ग्रोथ के भी बहुत सारे अवसर हैं. इसलिए युवाओं के लिए बायोटेक इंजीनियरिंग एक बेहतरीन करियर ऑप्शन है. 

जानें कैसे बनते हैं बायोटेक इंजीनियर
सबसे पहले 12वीं कक्षा में विज्ञान के साथ गणित लेना बहुत जरूरी है. इसके बाद आपको इंजीनियरिंग की प्रवेश परीक्षा जैसे कि जेईई या एनईईटी दे सकते हैं. प्रवेश परीक्षा में अच्छे मार्क्स लाने पर आप देशभर के अच्छे इंजीनियरिंग कॉलेजों में बायोटेक इंजीनियरिंग कोर्स कर सकते हैं. यह एक 4 साल का ग्रेजुएशन प्रोग्राम है. आप किसी भी कॉलेज से कर सकते हैं.  इस कोर्स में आपको जीव विज्ञान, रसायन विज्ञान, भौतिकी, गणित और इंजीनियरिंग की नई तकनीकों से संबंधित विषयों का गहन अध्ययन कराया जाता है. 

यह भी पढ़ें- कॉन्स्टेबल के 4 हजार से ज्यादा पदों पर निकली भर्ती, इस दिन कर सकेंगे अप्लाई

 

Education Loan Information:
Calculate Education Loan EMI

Rate this post

About The Author

Scroll to Top
हमें शेयर बाजार में निवेश क्यों करना चाहिए 10 कारण जानें